Internet काम कैसे करता है? How Internet Works via Cables? Who Wons The Internet? | Submarine Cables Map World Wide ...

Share:

Internet काम कैसे करता है? How Internet Works via Cables? Who Wons The Internet? | Submarine Cables Map World Wide  ...




Guys आज के Time मे दुनिया मे हम कुछ Time बिना पानी , बिना खाने के भी रह लेते है, लेकिन कुछ Time के लिये बिना Internet के रहना मुश्किल है और ये आप समझ ही रहे होंगे क्यू? | लेकिन Guys क्या आपने कभी सोचा है ये Internet काम कैसे करता है, कैसे कभी किसिको ज़्यादा Speed मिलती है तो कभी कम? क्यू अलग अलग Tariffs Plan अलग अलग Operator देते है? Boss ये Internet का मालिक कौन है? Internet मेरे तक पहुचता कैसे है?

So, Hi Guys Welcome to SPVzONE with me SpacemanVikky!
Here all the Information you will get on " How Internet Works via Optic Fibre Cables?

तो चलिये शुरू करते है ...





आपको लगता होगा Internet Setellite से चलता होगा या आपको लगता होगा Network Tower से चलता होगा Internet जो Network बिछा कर रखा हुआ है दुनिया मे | लेकिन सच तो कुछ और ही है सायद आपको ये नही पता होगा की 99% Internet जो है वो चलता है Optic Fibre Cable से जी हा Boss आपने सही Read किया अब आप बोलोगे की Boss मै तो Internet Mobile से चलाता हु | Mobile मे कौन सी Cable लगी हुई है, तो Boss जिस भी Tower से आपको Network मिल रहा है वो Tower से लेकर पूरी एक Cable बिछी हुई है|


अब मै आपको बिल्कुल आसान तरीके से इसे समझाता हू |

So Guys, आप तक आते आते Internet को तीन अलग अलग Company के Through उसको गुजरना पड़ता है| पहला होता है Tier 1 Company ये वो Company होती है जिन्होने पूरी दुनिया मे समुद्र के अंदर अपनी Cables बिछा कर रखे है| Guys ध्यान देने वाली बात ये है की Internet जो है वो बिल्कुल पूरा Free है तो आपके मन मे Question आए होंगे की मै बोल रहा हू Internet बिल्कुल पूरा Free है तो कैसे होता है? आप तो इसके लिए पैसे देते है, आपके लिए तो अलग अलग Tariffs Plan है| तो Guys आप अपनी खुद की भी Internet बना सकते हो तो वो कैसे? Suppose आपके अपने घर से आपका Office दूर है और आपको अपने घर के Computer को अपने Office के Computer से या Vice versa कुछ Data Transfer या उसे Operate करना हो तो आप उस दोनो Computer को Cable से Connect कर दो तो इसके लिए आपको अपने घर से Office तक Cable की Line बिछानी होगी तो बस आपका Internet Ready है तो यहा आपका पैसा सिर्फ़ उस Cable का और उसकी Maintenance का | अब आपको उस दोनो Computer को Operate करने के लिए आपको हो सकती है आपके उस Computer मे Manually कुछ Setting करने पड़े और Programming, Coading करनी पड़े या Easy to Use के लिए Software का Use करना पड़े | इसी तरह आप कई Devices आपस मे जोड़ सकते है, तो ये तो हो गयी आपकी Personal Internet | इसके Through आप अपने इन्ही Device को ही Operate कर पायेंगे | आप ऐसे World Wide Internet के साथ नही जुड़ पाए | तो इसी तरह Tier 1 Company है, उन्होने World मे सारी Countries के बीच मे सारे समुन्द्र के अंदर से उन्होने Optic Fibre Cable बिछा दी, और सारे Countries एक दूसरे से आपस मे Connect हो गये Country to Country |

So Guys, ये जो Optic Fibre Cable या इनको कहते है Submarine Cable वो इस तरह दिखती है-

 






इसके एक एक Cable जो की आपके बाल के Size की होती है और एक एक Cable के अंदर 100 GBPS की Speed रहती है, 100 GBPS का Bandwidth रहता है हर एक Cable मे Optic Fibre मे | जो Company ये बिछाती है वो है Tier 1 Company |

For more information about Submarine Cable Map Visit here: https://www.submarinecablemap.com आपको यहा दिख जाएगी World wide कैसे कैसे कितनी Cable बिछी हुई है, हर Country कैसे कैसे कहा कहा से एक दूसरे के साथ आपस मे Connected है इस Internet Cable से |




ये Cable जिन्होने बिछाई है उन्हे कहते है Tier 1 Company जिन्होने अपने पैसो से अपने Investment से ये Cable बिछा दी


तो India के जो Operators (JIO, Airtel, BSNL, Vodafone, Idea, ... . ... ) है वो अपना Infrastructure Setup & Management बना कर रखे हुए है Submarine Cable की Landing Point पर , तो आप अगर India से कोई भी Website visit करोगे जिनके Servers India से बाहर है तो वो उन Landing Point से निकलेगा आपका Data or Traffic और चला जाएगा उस Server तक जिस भी Location मे वो है| तो सबसे ज़्यादा Traffic जाती है वो है Mumbai से क्यूकी Mumbai मे Submarine Cable की Landing Point बहुत ज़्यादा है|

तो इससे आपको पता चल ही गया होगा की ये सब कोई Setellite से नही चलती है, ये जो हमारे Country के Operators होते है वो आपका Traffic Data जहा पर जिसके Servers है उस हिसाब से उसके Submarine Cable की Landing Point से निकाल देगा |


तो Tier1 Company ने अपनी Investment से एक दूसरे Country को जोड़ दिया और इस Internet की शुरुआत हो गई तो कभी कभी होता ये है की ये जो Submarine Cable कभी कभी टूट जाती है इसकी बहुत सी कारण हो सकती है क्यूकी ये समुन्द्र के अंदर है , 25 Year से ज़्यादा इनकी Life नही रहती है| तो इसलिए Internet World मे कोई बाधा रुकावट ना हो इसके लिए Backup के लिए ये लोग बहुत सारी Submarine Cable बिछा दी है और Time to Time इनकी Maintenance भी करते है तो इसलिए Internet जो की बिल्कुल Free है लेकिन इनके Maintenance के लिए Investment करना पड़ता है तो अब Tier2 Company वो Tier1 Company को बोलती है आप हम से कुछ Investment ले लो और आप हमे इस Service को Use करने दो ताकि वो हम तक ये Service पहुचाए, इसीलिए हमारे Country के Operators हम से पैसा Charge करते है क्यूकी उन्होने भी Investment की है अपने Country के अंदर अपने अपने Network Towers लगाए है , Cables बिछाये है और Infrastructure Setup & Management मे और इसलिए हमे Internet Free मे नही मिल पाती है | इसी तरह बहुत सारी कंपनी जो की Tier1, Tier2, ( इसी तरह Tier3 Company भी है ) सभी एक दूसरे के अंदर Work करते है और हमलोग भी अपने अपने ज़रूरी के हिसाब से उस Service को use करते है |


अब Reliance Jio की बात करे तो Reliance Jio ने India मे 4G Connectivity कैसे ला पाया तो Reliance Jio पिछले कई सालो ( लगभग 5-6 साल तक ) से काम कर रहा था India के अंदर Fibre optics बिछाने के लिए, जिसकी वजह से आपको India मे 4G Connectivity india मे सबसे पहले Jio लायी |


Reliance Jio ने खुद की अपनी Submarine Cable भी बिछा कर रखी हुई है Asia-Africa-Europe के बीच मे, और क्यूकी इनकी Investment पूरी हो चुकी है अब जो लगता है वो केवल इनके Maintenance मे लगता है और अब ये अपनी Market को बना लिया है तो अब Profit मे चल रही है तो इसलिए Jio कभी कभी Free मे Internet दे देता है |



तो Boss अगर अब भी आपको कोई Dought है How Internet Works? से Related, या Any Other Topic से Related तो नीचे Comment करिए मै उसका Reply ज़रूर दूँगा|


इसी तरह Knowledgeable or Trusted Topic के लिए बने रहे SPVzONE के साथ|
So i hope you like this topic.

Thank You !





Love You All...


 

No comments